गुरूवार, फ़रवरी 22, 2024
होमराजनीतिकेंद्रीय मंत्री नारायण राणे के बेटे नीलेश राणे ने सार्वजनिक सेवा में...

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के बेटे नीलेश राणे ने सार्वजनिक सेवा में 20 साल के बाद राजनीति से संन्यास ले लिया

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के बेटे नीलेश राणे ने 20 साल की सेवा के बाद सक्रिय राजनीति से संन्यास की घोषणा की। इस महत्वपूर्ण निर्णय के पीछे की उनकी यात्रा और कारणों को जाने।

Written By Shafeek Ahmad, Published on 25-Oct-2023, 12:30 IST.

एक आश्चर्यजनक कदम में, भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के बड़े बेटे नीलेश राणे ने दो दशकों की समर्पित सेवा के बाद सक्रिय राजनीति से दूर जाने का फैसला किया है। उनकी घोषणा एक महत्वपूर्ण राजनीतिक युग के अंत का प्रतीक है।

2009 से 2014 तक लोकसभा में रत्नागिरी-सिंधुदुर्ग निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले नीलेश राणे ने मंगलवार को यह घोषणा की। उन्होंने कहा, “मैं सक्रिय राजनीति से दूर जा रहा हूं। राजनीति में अब मेरी रुचि नहीं रही। कोई और कारण नहीं है।” यह निर्णय अप्रत्याशित होते हुए भी उनके हितों और प्राथमिकताओं में व्यक्तिगत बदलाव को दर्शाता है।

राणे ने अपने समर्थकों के प्रति गहरी कृतज्ञता व्यक्त की, जो लगभग 20 वर्षों तक निस्वार्थ भाव से उनके साथ खड़े रहे। उन्होंने भाजपा के भीतर मिले प्यार और गर्मजोशी को स्वीकार किया और पार्टी के साथ काम करने के दौरान मिले अवसरों के लिए खुद को भाग्यशाली माना। उन्होंने अपने सहयोगियों के साथ बनाए गए स्थायी रिश्तों पर जोर दिया, जिनमें से कई अब परिवार की तरह बन गए हैं।

यह ध्यान देने योग्य है कि नीलेश राणे के भाई, नितेश, वर्तमान में कांकावली निर्वाचन क्षेत्र से विधायक हैं, जो इस राजनीतिक परिवार की कहानी में एक दिलचस्प गतिशीलता जोड़ता है।

यह घटनाक्रम न केवल राणे परिवार के लिए बल्कि व्यापक राजनीतिक परिदृश्य के लिए भी महत्वपूर्ण है। नीलेश राणे की लोकसभा से लेकर राजनीति से अलग होने तक की यात्रा भारतीय राजनीति की बदलती दुनिया में व्यक्तिगत हितों और प्राथमिकताओं के विकास को दर्शाती है।

नीलेश राणे का सक्रिय राजनीति से संन्यास लेना उनके जीवन और राजनीतिक करियर का एक महत्वपूर्ण क्षण है। यह एक अनुस्मारक के रूप में कार्य करता है कि राजनीतिक परिदृश्य व्यक्तिगत परिवर्तन के अधीन हैं, और व्यक्तियों को, उनके परिवार की राजनीतिक विरासत की परवाह किए बिना, अपना रास्ता चुनने की स्वतंत्रता है। अपने समर्थकों और भाजपा के प्रति उनका हार्दिक आभार राजनीति में रिश्तों के मूल्य को रेखांकित करता है। यह निर्णय किसी की अपनी आकांक्षाओं के साथ विकसित होने के महत्व पर भी प्रकाश डालता है।

Source News


Disclaimer:- This news article was written by the help of syndicated feed, Some of the content and drafting are made by the help of Artificial Intelligence (AI) ChatGPT.

Author

  • Shafeek Ahmad

    Meet Shafeek Ahmad, a dedicated news writer at News Vistaar, with a passion for unearthing stories that matter. With a keen eye for detail and a commitment to delivering accurate and engaging news, Shafeek is a trusted source of information. Bringing years of experience to the table, Shafeek's writing is a blend of expertise and storytelling. In an era of fast-paced news cycles, Shafeek's articles stand out for their precision and commitment to journalistic integrity.

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments

%d